IND vs ENG: इंग्लैंड के रवैये से नाखुश हैं शेन वॉर्न, बोले- भारत के खिलाफ डरपोक क्रिकेट खेल रही इंग्लिश टीम

India vs England 1st Test: ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज लेग स्पिनर शेन वॉर्न भारत के खिलाफ एमए चिदंबरम स्टेडियम में खेले जा रहे पहले टेस्ट में इंग्लैंड के रवैये से नाखुश हैं. उनका मानना है कि भारत के खिलाफ इंग्लिश टीम जीतने के लिए नहीं बल्कि हार से बचने के लिए खेल रही है. दरअसल, वह इंग्लैंड के पारी घोषित नहीं करने के फैसले से नाराज़ हैं. वॉर्न ने इंग्लैंड के क्रिकेट खेलने के तरीके को डरपोक बताया है.

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन के एक ट्वीट को कोट करते हुए शेन वॉर्न ने कहा, “आपकी क्रिकेट टीम क्या कर रही है? वे भारत में मैच जाने दे रहे हैं? वे गेंदबाजी क्यों नहीं कर रहे हैं? इंग्लैंड दोनों पारियों में लंबे समय तक बल्लेबाजी करने के बाद अब भारत को आउट नहीं करना पाएगा.!!”

उन्होंने अपने अगले ट्वीट में कहा, “मैं बहुत हैरान हूं कि इंग्लैंड ने अभी तक पारी घोषित नहीं की है. वे तेज़ी से रन क्यों नहीं बना रहे हैं? दोनों पारियों में लम्बे समय तक बल्लेबाजी कर इंग्लैंड टीम भारत को आउट करने में असमर्थता दिखा रही है. ऑस्ट्रेलिया में भारतीय टीम ने हौसले और जज्बे की क्रिकेट खेली थी. ऑस्ट्रेलिया डरकर खेली और सीरीज हार गई, इंग्लैंड भी कुछ ऐसा ही कर रही है.”

वॉर्न ने आगे अपने ट्वीट में कहा कि इंग्लैंड इस रवैये के साथ खेल रही है कि हमें टेस्ट हारना नहीं है. वो जीत के बारे में सोच ही नहीं रही है. वो बल्लेबाज़ी करती रहेगी, तो उससे गेंदबाजों को समय कम मिलेगा. वो जीत का रवैया दिखा ही नहीं रहे हैं.

51 साल के वॉर्न ने आगे कहा कि इंग्लैंड को तेजी से 150-200 रन बनाने चाहिए थे और भारत को जल्दी बल्लेबाज़ी के लिए बुलाना चाहिए था. लेकिन उसने ऐसा करने के बजाय आराम से बल्लेबाज़ी की. यह तो भारत ने उसे 178 रनों पर ऑलआउट कर दिया, वरना वे आगे भी खेलना जारी रखते.

बता दें कि इंग्लैंड के पारी घोषित नहीं करने से पूर्व कप्तान केविन पीटरसन भी खुश नहीं हैं. उन्होंने भी इंग्लैंड के रवैये पर सवाल उठाए हैं.

गौरतलब है कि चेन्नई टेस्ट की पहली पारी में 578 रन बनाने के बाद इंग्लैंड ने भारत को उसकी पहली पारी में 337 रनों पर समेट दिया था. इस तरह पहली पारी में 241 रनों की विशाल बढ़त हासिल करने के बावजूद दूसरी पारी में उसने तेजी से रन नहीं बनाए. इंग्लैंड चाहती तो वो बल्लेबाज़ी क्रम में बदलाव करके 35-40 ओवर में आसानी से 200 रन बना सकती थी और फिर अपनी पारी घोषित करते भारत को बल्लेबाज़ी के लिए बुला सकती थी, लेकिन उसने ऐसा नहीं किया.

इंग्लैंड के ऑल आउट होने के बाद भारत ने 13 ओवर बैटिंग की और रोहित शर्मा का विकेट गवां दिया. अगर इंग्लैंड चाहता तो भारत को चौथे दिन 20-25 ओवर बल्लेबाज़ी के लिए बुला सकता था और दो से तीन विकेट लेकर उनपर दबाव बना सकता था.

यह भी पढ़ें- 

IND vs ENG: अश्विन का मानना- पांचवें दिन चेन्नई टेस्ट जीत सकता है भारत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *